Behtreen Khabar Hindi

computer on hone par bhi display Dikhai Na De To Kya Karen ? ise Kaise theek Karen ?

Kai bar Ham computer ko on karte hain to computer on hone par bhi display Dikhai Nahi deta , Yeh Sawal  Kai bar Hamen tang Karta Hai ki COMPUTER ON HONE PAR BHI DISPLAY DIKHAI NA DE TO KYA KAREN ? ISE KAISE THEEK KAREN ? yah samasya lagbhag Sabhi face kar chuke hain, 






computer on hone par bhi display Dikhai Na De To Kya Karen ? ise Kaise theek Karen ?

Din bhar Ham computer chalate Hain lekin Kai bar Ham computer ko bahut acche se shutdown Karke Jaate Hain ,  Aur Subah aate hi Jab Ham computer ko on Karte Hain To CPU to on ho jata hai ,  lekin computer ki screen per Hamen Kuchh Bhi Dikhai Nahin deta ,Screen black Ho Jaati Hai ,yah samasya bahut hi Gambhir samasya hai ise ham theek to karna chahte hain lekin Kai bar Hamen computer ke hardware ke bare mein nahin Pata Hota kya aapko pata hai ki yah samasya Aakhir hoti Kyon Hai Iske Piche kya Karan ho sakta hai Kyon Hamen screen per display Dikhai Nahin deta Iske Piche kya reason ho sakta hai to aaiae Jante Hain sabse pahle ke screen per display na Dikhai dene ke kya kya reason ho sakte hain aur aur is samasya se Hamen Main Kaise nijaat mil sakti hai to aaiae Jante Hain Hamare is article ke bare mein.






Kyon Hoti Hai computer per display na Dikhai Dene Ki samasya?

Is samasya ke  Kai Karan ho sakte hain lekin Kuch Karan ke udaharan is Prakar Hain :-


  • Jab ham computer ko shutdown karte hain to  screen Puri Tarah Se band Nahi Hoti, Aur ham UPS ko band kar dete Hain, isliye yah samasya aa  Jaati Hai.

  • Ham computer Ki Safai I per Dhyan Nahin dete computer ke processor ka fan dost ke Karan block ho jata hai isliye processor heat Hona shuru ho jata hai jisse yah samasya utpann Ho Jati Hai

  • Computer mein Lagi RAM kharab ho jaati hai isliye bhi yah samasya a Jaati Hai.

  • Motherboard short circuit Ke Karan kharab ho jata hai isliye yah samasya a Jaati Hai, Aur Hame screen per Kuchh Dikhai Nahin deta.

  • Computer ko chalane ke liye power supply Jo poore computer ko power supply karti hai , weh kharab ho jaati hai , isliye screen per display Aana band ho jata hai.

To Humne Dekha Upar likhe hue Kuchh Karano ki wajah se Hamari screen ka display band ho jata hai , Aur ham computer per Apna Karya nahi kar paate , Humne reason to Jaan liya lekin ! ab is samasya ka samadhan kaise karen? Kaise screen per Dobara se display laen ? iske liye Hamen is Samadhan ko apnana hoga , agar aap  is article ko Dhyan se padenge to apni computer ki  screen per dobara se display ki samasya ko Bina Kisi pareshani Se hal  kar lenge , to aaiae Jante Hain ki  is samasya ka Samadhan kya hai ?Ham step-by-step aap ko Samjhane ki koshish Karte Hain.


Computer ki screen Band Ho Jane par step-by-step samajhte Hain Ki isase Samadhan Kaise payen :-

Step -1

Computer ki screen ka display sabse pehle RAM kharab hone ke Ke Karan , Ya RAM per dust hone ke Karan  Hota Hai , isliye computer mein Lagi RAM ko Dhyan purvak nikaalen , isko acche se saaf Karen , isko saaf karne ke liye Kisi Saaf kapde Ya  aap mitane wali rubber (Eraser)  Ka Sahara bhi le sakte hain , ise acche se saaf karne ke bad ise Wapis computer mein Dhyan purvak Laga de , aur dobara se computer on Karen , Aisa karne per computer ka display jo band ho gaya tha weh Wapis se a jaega.

Step-2

Power supply kharab hone ke Karan bhi yah samasya utpann Ho Jaati Hai , isliye aap market se New power supply Lekar Aaye ,  Aur ise purani  power supply se Badal dein, ise badalne ke baad  aap computer ko  on Karen Aisa karne per bhi Is samasya Se Samadhan mil sakta hai , aur aapka computer bahut acche tarike se sahi ho sakta hai .


Step-3

Dust ke Karan yah samasya Aati Hai,  Kai bar Ham Apne Ghar Ki Safai karte hain ,ya Apne office Ki Safai Karte Hain , Jiske Karan power supply Mein laga hua Fan computer ke andar Mitti (Dust) ko khinch leta hai aur weh Mitti (Dust) processor Fan ke upar Chali Jaati Hai , Jiske Karan processor fan block ho jata hai,  aur processor ke upar laga hua Heat-Sinkkar processor ko Thanda Nahin Rakh pata, isliye display Aana band ho jata hai, aap Kisi blower ki sahayata se motherboard ko acche se saaf Karen , aap Kisi brush Ka Sahara bhi le sakte hain , Aisa karne per Puri Mitti (Dust) Jo motherboard ke upar Baithi hui thi weh udd Jayegi aur display Aana shuru ho jaega ,

 NOTE :Aisa aap computer ko Band Karke hi Karen computer ko on karke kabhi bhi computer ke kisi hardware ko Hath na lagaen.

Screen per display na Aane Ki samasya bahut hi common samasya Hai , yah lagbhag ham Sabhi log face Karte Hain,  agar aap Hamara yah article acche se Dhyan purvak padh le To aap lagbhag computer Ki Is samasya Se Samadhan pa sakte hain ,  Agar aapko Hamara yah article Achcha Laga to kripya Hamen comment section Mein comment kar ke bataen , aur Hamen computer se Judi Hui baki samasyaon ke bare mein bhi bataen , Ham Puri koshish Karenge ki aapko un samasyaon se Samadhan pane ke liye Ham new artical likhen , Behtarin Khabar aap Sabhi Ke liye computer se Judi Har samasya ka Samadhan Lekar Aane Ki Puri koshish karta hai .

ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

मां ज्वाला जी मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है, जो कि कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी शहर में हिमाचल प्रदेश तथा हिमालय के निचले क्षेत्र में स्थित है ,ज्वाला जी का मंदिर माता ज्वाला जी जिन्हें ज्वाला देवी जी के नाम से भी जाना जाता है को समर्पित है, ज्वाला माता जी का मंदिर धर्मशाला से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, प्राचीन ग्रंथों और ज्योतिषियों के आधार पर ऐसा माना जाता है के इस मंदिर में माता ज्योति रूप में विराजमान है और इसी ज्योति के आगे शहंशाह अकबर को भी झुकना पड़ा था , उनके अहंकार को ज्वाला माता जी ने चूर चूर किया अहंकार टूटने के बाद शहंशाह अकबर ने माता के आगे नतमस्तक होकर नमस्कार किया, और माता जी को एक सोने का छत्तर भी चढ़ाया, जिसके बारे में एक अलग से कहानी विख्यात है|
ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था
ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

जब शहंशाह अकबर को भी माता के दरबार में झुकना पड़ा था 

 शहंशाह अकबर के सिपाहियों ने जब ध्यानू भगत जी को माता ज्वाला जी के मंदिर में पूजा अर्चना करते हुए देखा, तो उन्होंने ध्यानू भगत जी से माता के अद्भुत रूप के बारे में जानने की कोशिश की तब ध्यानू भगत जी ने ज्वाला माता जी को भगवान रूपी दर्जा देते हुए जगत जननी बताया और ठीक वैसे ही शहंशाह अकबर के सिपाहियों ने अपने शहंशाह को माता ज्वाला जी के बारे में बताया, परंतु शहंशाह अकबर शहंशाह के साथ साथ अहंकारी भी थे, उन्होंने माता की परीक्षा लेनी चाही इसके चलते उन्होंने अपने सिपाहियों से मंदिर में जल रही ज्योति को बुझाने के लिए कहा , लाख कोशिशों के बाद भी जब मंदिर में जल रही ज्योतियां नहीं बुझी तब शहंशाह अकबर माता के दरबार में नतमस्तक हो गए, और उन्होंने सोने का छत्र चढ़ाया जो आज भी ज्वाला जी में देखा जा सकता है परंतु माता ज्वाला जी ने शहंशाह अकबर के इस अहंकारी तोहफे को कबूल नहीं किया शहंशाह अकबर के हाथों से वह सोने का छत्र नीचे धरती पर गिर गया और किसी अलग धातु में परिवर्तित हो गया|

ज्वाला जी आज भी कर रही हैं अपने  भक्त का इंतजार

गुरु गोरखनाथ माता ज्वाला जी के बहुत बड़े भक्त थे,  ग्रंथों और ज्योतिषियों के आधार पर ऐसा कहा जाता है , के एक बार गुरु गोरखनाथ जी को भूख लगी और उन्होंने ज्वाला माता जी को भोजन पकाने के लिए अग्नि जलाने को कहा और खुद दीक्षा लेने चले गए जाते जाते उन्होंने माता जी से यह कहा कि जब तक वह भिक्षा लेकर वापस नहीं आते तब तक आप उनका इंतजार करिए और अग्नि को जलाए रखें ऐसी मान्यता है के ज्वाला माता जी आज भी अपने  भक्त गोरखनाथ जी के इंतजार में ज्योति रूप अग्नि को जलाए हुए हैं ऐसा कहा जाता है के गुरु गोरखनाथ कलयुग के अंत में भिक्षा लेकर आएंगे और अपनी माता ज्वाला जी के हाथों से भोजन प्राप्त करके कृतार्थ होंगे|

माता सती की जिह्वा गिरने के कारण यह स्थान ज्वाला जी के नाम से प्रसिद्ध हुआ

 ज्वाला जी में माता सती की जिह्वा गिरी थी , इसीलिए इस स्थान को ज्वाला जी के नाम से जाना जाता है लगातार इस स्थान पर माता की नौ ज्योतियां लगातार बिना किसी भी बाती के जल रही हैं यहां धरती से अलग-अलग जगहों में ज्वालाए निकल रही हैं जिनकी गिनती नो है ऐसी मान्यता है के इन अलग-अलग ज्योतियों को महाकाली, अन्नपूर्णा ,चंडी ,हिंगलाज ,विंध्यवासिनी ,महालक्ष्मी ,सरस्वती ,अंबिका ,अंजी देवी के नाम से जाना जाता है यह  स्थान शक्तिपीठों में गिना जाता है माता की जिह्वा गिरने के कारण यह स्थान शक्तिपीठों में आता है कहते हैं जहां जहां माता सती के अंग गिरे थे वह स्थान अलग अलग शक्तिपीठों में गिने जाते हैं ज्वालाजी इन्हीं शक्तिपीठों में से एक है|

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

पश्चिम बंगाल की हुगली नदी के तट पर लालबाग कोर्ट के किरीट कौन ग्राम पर किरीट शक्तिपीठ स्थित है धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर इस शक्तिपीठ पर माता सती के शीश का मुकुट गिरा था|

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.behtreenkhabar
किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

धार्मिक मान्यताओं के आधार पर शक्तिपीठों के बारे में जानकारी/Information About Shakti Peethas Based On Religious Beliefs.

धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ऐसा कहा जाता है के शिव शंकर जी की धर्मपत्नी माता सती के पिताजी दक्ष प्रजापति जी ने एक बहुत ही बड़े यज्ञ का आयोजन किया, उसमें उन्होंने सभी देवताओं को आमंत्रित किया, किंतु उन्होंने अपनी पुत्री माता सती और उनके पति शिव शंकर जी को आमंत्रित नहीं किया, जिससे नाराज होकर माता सती बिना अपने पति  की आज्ञा से अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ समारोह में चली गई, वहां जाकर दक्ष के द्वारा उनको बहुत बुरा भला कहा गया और उनके पति शिव शंकर जी के बारे में दक्ष ने बहुत ही अपशब्द कहे, माता सती अपने पति के बारे में यह सब असहनीय शब्द सुन ना सकी और गुस्से में आकर उन्होंने अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ में कूदकर अपनी जान दे दी,जब शिव शंकर जी को अपनी धर्मपत्नी माता सती की मृत्यु के बारे में पता लगा तो वह  बहुत ही गुस्से में आ गए और उन्होंने अपने रूद्र अवतार (वीरभद्र ) को दक्ष प्रजापति की हत्या के लिए भेजा उनके रूद्र अवतार (वीरभद्र )  ने दक्ष प्रजापति की हत्या कर दी ,लेकिन शिव शंकर जी अपनी धर्मपत्नी माता सती के शव को उठाकर पूरी दुनिया में भ्रमण करने लगे, जिससे धरती का संतुलन बिगड़ने लगा सब और त्राहिमाम त्राहिमाम होने लगा ,सब देवता गण धरती की यह दशा देखकर धरती के संचालन श्री नारायण जी के पास गए , तब नारायण जी ने अपने चक्र सुदर्शन चक्र की सहायता से माता सती के अंगों को 51 भागों में विभाजित कर दिया , यह 51  अंग जहां जहां पर गिरे आज के युग में वहीं पर माता जी का भव्य मंदिर का निर्माण किया हुआ है आपको बता दें जहां जहां   माता सती जी के 51 अंग  गिरे वही 51 जगह 51  शक्ति पीठ कहलाए|


किरीट विमला शक्ति पीठ के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी/Some important information about Kirit Vimala Shakti Peeth.



स्थान: किरतेश्वरी, पश्चिम बंगाल 742104
समय: सुबह 06:00 खुलने का समय  और रात 10:00 बजे बंद होने का समय
आरती के दौरान, मंदिर थोड़ी अवधि के लिए बंद रहता है।
यात्रा करने का सर्वोत्तम समय: अक्टूबर से मार्च
निकटतम रेलवे स्टेशन: किर्तेश्वरी मंदिर से लगभग 3.2 किलोमीटर की दूरी पर दहपारा रेलवे स्टेशन।
निकटतम हवाई अड्डा: नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा किरीतेश्वरी मंदिर से लगभग 239 किलोमीटर की दूरी पर।
प्रमुख त्योहार: विजयादशमी, दुर्गा पूजा और नवरात्रि।


पुराणों और ग्रंथों के आधार पर किरीट विमला को मुक्तेश्वरी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इस स्थान पर माता सती जी का  मुकुट गिरा था किरीट विमला शक्ति पीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है यहां की शक्ति विमला अथवा भुवनेश्वरी तथा भैरव संवर्त  है|

51 शक्तिपीठो के बारे में जाने

51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas

कुछ आवश्यक जानकारी / Some essential information.

भारतीय अध्यात्म में शक्तिपीठों का बहुत अधिक महत्व है, हमने भारतीय शक्तिपीठो की सूचि धार्मिक ग्रंथो और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर प्रपात की है , हमने इन धार्मिक शक्तिपीठो का इतिहास और इन तक पहुंचने की सारी जानकारी बड़ी ही सरलता से देने की कोशिश की है , आशा करते है के आप सभी को हमारी यह पुरजोर कोशिश अच्छी लगे ,धन्यवाद| 
51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas ,behtreenkhabar
51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas 


धार्मिक मान्यताओं के आधार पर शक्तिपीठों के बारे में जानकारी/Information about Shakti Peethas based on religious beliefs.

धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ऐसा कहा जाता है के शिव शंकर जी की धर्मपत्नी माता सती के पिताजी दक्ष प्रजापति जी ने एक बहुत ही बड़े यज्ञ का आयोजन किया, उसमें उन्होंने सभी देवताओं को आमंत्रित किया, किंतु उन्होंने अपनी पुत्री माता सती और उनके पति शिव शंकर जी को आमंत्रित नहीं किया, जिससे नाराज होकर माता सती बिना अपने पति  की आज्ञा से अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ समारोह में चली गई, वहां जाकर दक्ष के द्वारा उनको बहुत बुरा भला कहा गया और उनके पति शिव शंकर जी के बारे में दक्ष ने बहुत ही अपशब्द कहे, माता सती अपने पति के बारे में यह सब असहनीय शब्द सुन ना सकी और गुस्से में आकर उन्होंने अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ में कूदकर अपनी जान दे दी,जब शिव शंकर जी को अपनी धर्मपत्नी माता सती की मृत्यु के बारे में पता लगा तो वह  बहुत ही गुस्से में आ गए और उन्होंने अपने रूद्र अवतार (वीरभद्र ) को दक्ष प्रजापति की हत्या के लिए भेजा उनके रूद्र अवतार (वीरभद्र )  ने दक्ष प्रजापति की हत्या कर दी ,लेकिन शिव शंकर जी अपनी धर्मपत्नी माता सती के शव को उठाकर पूरी दुनिया में भ्रमण करने लगे, जिससे धरती का संतुलन बिगड़ने लगा सब और त्राहिमाम त्राहिमाम होने लगा ,सब देवता गण धरती की यह दशा देखकर धरती के संचालन श्री नारायण जी के पास गए , तब नारायण जी ने अपने चक्र सुदर्शन चक्र की सहायता से माता सती के अंगों को 51 भागों में विभाजित कर दिया , यह 51  अंग जहां जहां पर गिरे आज के युग में वहीं पर माता जी का भव्य मंदिर का निर्माण किया हुआ है आपको बता दें जहां जहां   माता सती जी के 51 अंग  गिरे वही 51 जगह 51  शक्ति पीठ कहलाए|

शक्तिपीठो की संख्या /Number of Shakti Peeths.

देवी पुराण में 51 शक्तिपीठो की जानकारी मिलती है। और देवी भागवत में 108 और देवी गीता में 72 शक्तिपीठों का वर्णन मिलता है, इनके आलबा तन्त्रचूडामणि में 52 शक्तिपीठ का वर्णन मिलता हैं। ज्ञातव्य है की इन 51 शक्तिपीठों में से, 5 और भी कम हो गए। भारत-विभाजन के बाद भारत में 42 शक्ति पीठ रह गए है। इन शक्तिपीठो मे से 1 शक्तिपीठ पाकिस्तान में चला गया और 4 बांग्लादेश में। बचे हुए 4 पीठो में 1 श्रीलंका में, 1 तिब्बत में तथा 2 नेपाल में है।

शक्तिपीठों के नाम /Names of Shaktipeethas.


किरीट शक्तिपीठ | कात्यायनी शक्तिपीठ | करवीर शक्तिपीठ | श्री पर्वत शक्तिपीठ | विशालाक्षी शक्तिपीठ | गोदावरी तट शक्तिपीठ | शुचीन्द्रम शक्तिपीठ | पंच सागर शक्तिपीठ | ज्वालामुखी शक्तिपीठ | भैरव पर्वत शक्तिपीठ | अट्टहास शक्तिपीठ | जनस्थान शक्तिपीठ | कश्मीर शक्तिपीठ या अमरनाथ शक्तिपीठ | नन्दीपुर शक्तिपीठ | श्री शैल शक्तिपीठ | नलहटी शक्तिपीठ | मिथिला शक्तिपीठ | रत्नावली शक्तिपीठ | अम्बाजी शक्तिपीठ | जालंध्र शक्तिपीठ | रामागरि शक्तिपीठ | वैद्यनाथ शक्तिपीठ | वक्त्रोश्वर शक्तिपीठ | कण्यकाश्रम कन्याकुमारी शक्तिपीठ | बहुला शक्तिपीठ | उज्जयिनी शक्तिपीठ | मणिवेदिका शक्तिपीठ | प्रयाग शक्तिपीठ | विरजाक्षेत्रा, उत्कल शक्तिपीठ | कांची शक्तिपीठ | कालमाध्व शक्तिपीठ | शोण शक्तिपीठ | कामाख्या शक्तिपीठ | जयन्ती शक्तिपीठ | मगध् शक्तिपीठ | त्रिस्तोता शक्तिपीठ | त्रिपुरी सुन्दरी शक्तित्रिपुरी पीठ | विभाष शक्तिपीठ | देवीकूप पीठ कुरुक्षेत्र शक्तिपीठ | युगाद्या शक्तिपीठ, क्षीरग्राम शक्तिपीठ | विराट का अम्बिका शक्तिपीठ | कालीघाट शक्तिपीठ | मानस शक्तिपीठ | लंका शक्तिपीठ | गण्डकी शक्तिपीठ | गुह्येश्वरी शक्तिपीठ | हिंगलाज शक्तिपीठ | सुगंध शक्तिपीठ | करतोयाघाट शक्तिपीठ | चट्टल शक्तिपीठ | यशोर शक्तिपीठ

ध्यान दें : ऊपर लिखित सभी जानकारी धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ही है बेहतरीन खबर इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ है


Reset Your Forgotten Windows Password For Free ||पासवर्ड कैसे चेंज करें बिना पुराना पासवर्ड डालें

Reset Your Forgotten Windows 10.7.8.XP Password For Free ||पासवर्ड कैसे चेंज करें बिना पुराना पासवर्ड डालें || कई बार हम अपने कंप्यूटर में पासवर्ड लगा देते हैं और उस पासवर्ड को याद रखना भूल जाते हैं कुछ दिनों के बाद जब हम अपने पासवर्ड को चेंज करना चाहते हैं तो बिना पुराना पासवर्ड डालें हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप का पासवर्ड चेंज नहीं कर पाते लेकिन आज मैं आपको बताऊंगा कि बिना पुराना पासवर्ड डालें हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप का पासवर्ड कैसे चेंज कर सकते हैं और बहुत ही आसानी के साथ हम अपने पासवर्ड को बिना कंट्रोल पैनल में जाए चेंज कर सकते हैं|





Reset Your Forgotten Password


Step -1 


अपने कंप्यूटर के Command Prompt में जाइए, उसके लिए आप Run Command  में CMD टाइप करें और CMD को राइट क्लिक करकेRun Command को Run As Administrator पर ओपन कर लीजिए.

Step -2



अब आप Command Promp में  Net User लिखे , ऐसा करते ही आपके कंप्यूटर और लैपटॉप में कौन कौन  से यूजर चल रहे है वो आपके सामने आ जायेंगे। 

Step - 3



 सबसे पहले अब Net User लिखे ,अब आप जिस भी यूजर पर पासवर्ड लगाना चाहते है उस (User Name)यूजर का नाम लिखे फिर स्पेस दे और (Password) पासवर्ड डालदे और एंटर करें .

ऊपर दिए हुए स्टेप्स को फॉलो करते हुए आप अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में बिना पुराना पासवर्ड डालें नया पासवर्ड क्रिएट कर सकते हैं वह भी बिना कंट्रोल पैनल में जाए और बिना पासवर्ड डाले तो देखा दोस्तों इस छोटी सी मजेदार ट्रिक से आप अपने कंप्यूटर या लैपटॉप के यूजर को नया पासवर्ड लगा सकते हैं वह भी बिना पुराना पासवर्ड डालें|

Best 5 Free Video Editing Software For Windows & Mac OS Laptop & Computer| Hindi

 Best 5 Free Video Editing Software For Windows & Mac OS Laptop & Computer| Hindi 

हेलो दोस्तों बेहतरीन खबर में आपका स्वागत है दोस्तों आज कल हर कोई यूट्यूब पर वीडियो स्टेटस बनाने की कोशिश करता रहता है लेकिन हम जिस ऐप या वेबसाइट या सॉफ्टवेयर में वीडियो एडिटिंग करते हैं वह ज्यादातर Paid होते हैं उन्हें चलाने के लिए हमें बहुत सारे पैसे देने पड़ते हैंलेकिन दोस्तों आज मैं आपके लिए कुछ ऐसे वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर लेकर आया हूं जो बहुत ही अच्छे हैं और उन सॉफ्टवेयर्स में आप प्रोफेशनल तरीके से वीडियो को एडिट कर सकते हैं और वीडियो स्टेटस बहुत ही आसानी के साथ बना सकते हैं तो आइए जानते हैं वह कौन से सॉफ्टवेयर हैं जिनका इस्तेमाल हम बिल्कुल फ्री कर सकते हैं|

Best 5 Free Video Editing Software For Window Or mac OS For Laptop & Computer
Best 5 Free Video Editing Software For Window Or mac OS For Laptop & Computer

#OpenShot (Video Editor ) Free Software

Click Here For Download OpenShot


OpenShot बहुत ही अच्छा वीडियो सॉफ्टवेयर है इसका इस्तेमाल हम बहुत ही आसानी के साथ कर सकते हैं यह सॉफ्टवेयर चाहे वह एप्पल का मैं ऑपरेटिंग सिस्टम हो या फिर माइक्रोसॉफ्ट का विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम हो यह सॉफ्टवेयर बड़ी ही आसानी के साथ वीडियो एडिटिंग कर सकता है,यह पूरी तरह से फ्री है , और लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है , इस सॉफ्टवेयर में आप प्रोफेशनली वीडियो एडिट कर सकते हो ,इसमें वो सभी टूल्स जो एक पेड सॉफ्टवेयर में होते है ,लगभग फ्री मिल जायेंगे , यानि के इस सॉफ्टवेयर को आप पूरे प्रोफेशनल तरीके से बिलकुल फ्री में चला पाएंगे , और बहुत ही बेहतर तरीके से आप वीडियो को फ्री में एडिट कर पाएंगे , डाउनलोड के बटन से आप इस सॉफ्टवेयर को बिलकुल फ्री में डाउनलोड करे और इस सॉफ्टवेयर का भरपूर लाभ उठाये। 


How to Free hard disk data recovery | how to recover corrupted files from usb | #Behtreen_Khabar

How to Free hard disk data recovery | how to recover corrupted files from usb

Data Recovery Services:-

Friends, we sometimes lose our important data,Then we look for the data recovery service so that our important data can get us back,But for that we have to pay a lot of money because no data recovery service is available for free,But today we have brought some software for you that will give you free data recovery services.

Data Recovery Service
Free Data Recovery Service


How to Find the Best Data Recovery Service Free ????

However, in today's day, nothing is impossible.Whatever we search through the internet, we get it very easily.Just like we find the best data recovery service through the internet, we get very good results.Today, we will talk about the same results from now and will also learn how to get back their imported data.

How To Recover Deleted Data From Hard Disk & Pen Drive SD Card ??

Many times we keep our important data in a hard disk pen drive or SD card.But after a few days the hard disk pen drive or SD card is crypt-free for some reason.Because of which we lose our important data, because after the corrupt, we have to format those hard disk pen drives and SD cards.So today we will learn to recover data from the formatted hard disk pendrive and SD card.


Recuva - Software for data recovery

By the way, you will find so many software that you can easily get your lost data back again.But the software we will talk about today is named Recuva.You will find it on the internet with very ease.The important thing about this software is that it gives you back the hard disk  pen drives and the deleted data from the SD cards with very ease.Download this software through the download link and get it back with your deleted data very easily by installing it according to the operating system of your computer.