Thursday, August 8, 2019

ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

मां ज्वाला जी मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है, जो कि कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी शहर में हिमाचल प्रदेश तथा हिमालय के निचले क्षेत्र में स्थित है ,ज्वाला जी का मंदिर माता ज्वाला जी जिन्हें ज्वाला देवी जी के नाम से भी जाना जाता है को समर्पित है, ज्वाला माता जी का मंदिर धर्मशाला से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, प्राचीन ग्रंथों और ज्योतिषियों के आधार पर ऐसा माना जाता है के इस मंदिर में माता ज्योति रूप में विराजमान है और इसी ज्योति के आगे शहंशाह अकबर को भी झुकना पड़ा था , उनके अहंकार को ज्वाला माता जी ने चूर चूर किया अहंकार टूटने के बाद शहंशाह अकबर ने माता के आगे नतमस्तक होकर नमस्कार किया, और माता जी को एक सोने का छत्तर भी चढ़ाया, जिसके बारे में एक अलग से कहानी विख्यात है|
ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था
ज्वालामुखी शक्तिपीठ / jvaalaamukhee shaktipeeth | जहां पर अकबर को भी झुकना पड़ा था

जब शहंशाह अकबर को भी माता के दरबार में झुकना पड़ा था 

 शहंशाह अकबर के सिपाहियों ने जब ध्यानू भगत जी को माता ज्वाला जी के मंदिर में पूजा अर्चना करते हुए देखा, तो उन्होंने ध्यानू भगत जी से माता के अद्भुत रूप के बारे में जानने की कोशिश की तब ध्यानू भगत जी ने ज्वाला माता जी को भगवान रूपी दर्जा देते हुए जगत जननी बताया और ठीक वैसे ही शहंशाह अकबर के सिपाहियों ने अपने शहंशाह को माता ज्वाला जी के बारे में बताया, परंतु शहंशाह अकबर शहंशाह के साथ साथ अहंकारी भी थे, उन्होंने माता की परीक्षा लेनी चाही इसके चलते उन्होंने अपने सिपाहियों से मंदिर में जल रही ज्योति को बुझाने के लिए कहा , लाख कोशिशों के बाद भी जब मंदिर में जल रही ज्योतियां नहीं बुझी तब शहंशाह अकबर माता के दरबार में नतमस्तक हो गए, और उन्होंने सोने का छत्र चढ़ाया जो आज भी ज्वाला जी में देखा जा सकता है परंतु माता ज्वाला जी ने शहंशाह अकबर के इस अहंकारी तोहफे को कबूल नहीं किया शहंशाह अकबर के हाथों से वह सोने का छत्र नीचे धरती पर गिर गया और किसी अलग धातु में परिवर्तित हो गया|

ज्वाला जी आज भी कर रही हैं अपने  भक्त का इंतजार

गुरु गोरखनाथ माता ज्वाला जी के बहुत बड़े भक्त थे,  ग्रंथों और ज्योतिषियों के आधार पर ऐसा कहा जाता है , के एक बार गुरु गोरखनाथ जी को भूख लगी और उन्होंने ज्वाला माता जी को भोजन पकाने के लिए अग्नि जलाने को कहा और खुद दीक्षा लेने चले गए जाते जाते उन्होंने माता जी से यह कहा कि जब तक वह भिक्षा लेकर वापस नहीं आते तब तक आप उनका इंतजार करिए और अग्नि को जलाए रखें ऐसी मान्यता है के ज्वाला माता जी आज भी अपने  भक्त गोरखनाथ जी के इंतजार में ज्योति रूप अग्नि को जलाए हुए हैं ऐसा कहा जाता है के गुरु गोरखनाथ कलयुग के अंत में भिक्षा लेकर आएंगे और अपनी माता ज्वाला जी के हाथों से भोजन प्राप्त करके कृतार्थ होंगे|

माता सती की जिह्वा गिरने के कारण यह स्थान ज्वाला जी के नाम से प्रसिद्ध हुआ

 ज्वाला जी में माता सती की जिह्वा गिरी थी , इसीलिए इस स्थान को ज्वाला जी के नाम से जाना जाता है लगातार इस स्थान पर माता की नौ ज्योतियां लगातार बिना किसी भी बाती के जल रही हैं यहां धरती से अलग-अलग जगहों में ज्वालाए निकल रही हैं जिनकी गिनती नो है ऐसी मान्यता है के इन अलग-अलग ज्योतियों को महाकाली, अन्नपूर्णा ,चंडी ,हिंगलाज ,विंध्यवासिनी ,महालक्ष्मी ,सरस्वती ,अंबिका ,अंजी देवी के नाम से जाना जाता है यह  स्थान शक्तिपीठों में गिना जाता है माता की जिह्वा गिरने के कारण यह स्थान शक्तिपीठों में आता है कहते हैं जहां जहां माता सती के अंग गिरे थे वह स्थान अलग अलग शक्तिपीठों में गिने जाते हैं ज्वालाजी इन्हीं शक्तिपीठों में से एक है|

Monday, July 22, 2019

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

पश्चिम बंगाल की हुगली नदी के तट पर लालबाग कोर्ट के किरीट कौन ग्राम पर किरीट शक्तिपीठ स्थित है धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर इस शक्तिपीठ पर माता सती के शीश का मुकुट गिरा था|

किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.behtreenkhabar
किरीट – विमला (भुवनेशी) शक्तिपीठ/Kirit - Vimala (Bhubaneshi) Shaktipeeth.

धार्मिक मान्यताओं के आधार पर शक्तिपीठों के बारे में जानकारी/Information About Shakti Peethas Based On Religious Beliefs.

धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ऐसा कहा जाता है के शिव शंकर जी की धर्मपत्नी माता सती के पिताजी दक्ष प्रजापति जी ने एक बहुत ही बड़े यज्ञ का आयोजन किया, उसमें उन्होंने सभी देवताओं को आमंत्रित किया, किंतु उन्होंने अपनी पुत्री माता सती और उनके पति शिव शंकर जी को आमंत्रित नहीं किया, जिससे नाराज होकर माता सती बिना अपने पति  की आज्ञा से अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ समारोह में चली गई, वहां जाकर दक्ष के द्वारा उनको बहुत बुरा भला कहा गया और उनके पति शिव शंकर जी के बारे में दक्ष ने बहुत ही अपशब्द कहे, माता सती अपने पति के बारे में यह सब असहनीय शब्द सुन ना सकी और गुस्से में आकर उन्होंने अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ में कूदकर अपनी जान दे दी,जब शिव शंकर जी को अपनी धर्मपत्नी माता सती की मृत्यु के बारे में पता लगा तो वह  बहुत ही गुस्से में आ गए और उन्होंने अपने रूद्र अवतार (वीरभद्र ) को दक्ष प्रजापति की हत्या के लिए भेजा उनके रूद्र अवतार (वीरभद्र )  ने दक्ष प्रजापति की हत्या कर दी ,लेकिन शिव शंकर जी अपनी धर्मपत्नी माता सती के शव को उठाकर पूरी दुनिया में भ्रमण करने लगे, जिससे धरती का संतुलन बिगड़ने लगा सब और त्राहिमाम त्राहिमाम होने लगा ,सब देवता गण धरती की यह दशा देखकर धरती के संचालन श्री नारायण जी के पास गए , तब नारायण जी ने अपने चक्र सुदर्शन चक्र की सहायता से माता सती के अंगों को 51 भागों में विभाजित कर दिया , यह 51  अंग जहां जहां पर गिरे आज के युग में वहीं पर माता जी का भव्य मंदिर का निर्माण किया हुआ है आपको बता दें जहां जहां   माता सती जी के 51 अंग  गिरे वही 51 जगह 51  शक्ति पीठ कहलाए|


किरीट विमला शक्ति पीठ के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी/Some important information about Kirit Vimala Shakti Peeth.



स्थान: किरतेश्वरी, पश्चिम बंगाल 742104
समय: सुबह 06:00 खुलने का समय  और रात 10:00 बजे बंद होने का समय
आरती के दौरान, मंदिर थोड़ी अवधि के लिए बंद रहता है।
यात्रा करने का सर्वोत्तम समय: अक्टूबर से मार्च
निकटतम रेलवे स्टेशन: किर्तेश्वरी मंदिर से लगभग 3.2 किलोमीटर की दूरी पर दहपारा रेलवे स्टेशन।
निकटतम हवाई अड्डा: नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा किरीतेश्वरी मंदिर से लगभग 239 किलोमीटर की दूरी पर।
प्रमुख त्योहार: विजयादशमी, दुर्गा पूजा और नवरात्रि।


पुराणों और ग्रंथों के आधार पर किरीट विमला को मुक्तेश्वरी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इस स्थान पर माता सती जी का  मुकुट गिरा था किरीट विमला शक्ति पीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है यहां की शक्ति विमला अथवा भुवनेश्वरी तथा भैरव संवर्त  है|

51 शक्तिपीठो के बारे में जाने

51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas

कुछ आवश्यक जानकारी / Some essential information.

भारतीय अध्यात्म में शक्तिपीठों का बहुत अधिक महत्व है, हमने भारतीय शक्तिपीठो की सूचि धार्मिक ग्रंथो और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर प्रपात की है , हमने इन धार्मिक शक्तिपीठो का इतिहास और इन तक पहुंचने की सारी जानकारी बड़ी ही सरलता से देने की कोशिश की है , आशा करते है के आप सभी को हमारी यह पुरजोर कोशिश अच्छी लगे ,धन्यवाद| 
51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas ,behtreenkhabar
51 शक्तिपीठो के बारे में जाने | Know about 51 Shakti Peethas 


धार्मिक मान्यताओं के आधार पर शक्तिपीठों के बारे में जानकारी/Information about Shakti Peethas based on religious beliefs.

धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ऐसा कहा जाता है के शिव शंकर जी की धर्मपत्नी माता सती के पिताजी दक्ष प्रजापति जी ने एक बहुत ही बड़े यज्ञ का आयोजन किया, उसमें उन्होंने सभी देवताओं को आमंत्रित किया, किंतु उन्होंने अपनी पुत्री माता सती और उनके पति शिव शंकर जी को आमंत्रित नहीं किया, जिससे नाराज होकर माता सती बिना अपने पति  की आज्ञा से अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ समारोह में चली गई, वहां जाकर दक्ष के द्वारा उनको बहुत बुरा भला कहा गया और उनके पति शिव शंकर जी के बारे में दक्ष ने बहुत ही अपशब्द कहे, माता सती अपने पति के बारे में यह सब असहनीय शब्द सुन ना सकी और गुस्से में आकर उन्होंने अपने पिता दक्ष प्रजापति के यज्ञ में कूदकर अपनी जान दे दी,जब शिव शंकर जी को अपनी धर्मपत्नी माता सती की मृत्यु के बारे में पता लगा तो वह  बहुत ही गुस्से में आ गए और उन्होंने अपने रूद्र अवतार (वीरभद्र ) को दक्ष प्रजापति की हत्या के लिए भेजा उनके रूद्र अवतार (वीरभद्र )  ने दक्ष प्रजापति की हत्या कर दी ,लेकिन शिव शंकर जी अपनी धर्मपत्नी माता सती के शव को उठाकर पूरी दुनिया में भ्रमण करने लगे, जिससे धरती का संतुलन बिगड़ने लगा सब और त्राहिमाम त्राहिमाम होने लगा ,सब देवता गण धरती की यह दशा देखकर धरती के संचालन श्री नारायण जी के पास गए , तब नारायण जी ने अपने चक्र सुदर्शन चक्र की सहायता से माता सती के अंगों को 51 भागों में विभाजित कर दिया , यह 51  अंग जहां जहां पर गिरे आज के युग में वहीं पर माता जी का भव्य मंदिर का निर्माण किया हुआ है आपको बता दें जहां जहां   माता सती जी के 51 अंग  गिरे वही 51 जगह 51  शक्ति पीठ कहलाए|

शक्तिपीठो की संख्या /Number of Shakti Peeths.

देवी पुराण में 51 शक्तिपीठो की जानकारी मिलती है। और देवी भागवत में 108 और देवी गीता में 72 शक्तिपीठों का वर्णन मिलता है, इनके आलबा तन्त्रचूडामणि में 52 शक्तिपीठ का वर्णन मिलता हैं। ज्ञातव्य है की इन 51 शक्तिपीठों में से, 5 और भी कम हो गए। भारत-विभाजन के बाद भारत में 42 शक्ति पीठ रह गए है। इन शक्तिपीठो मे से 1 शक्तिपीठ पाकिस्तान में चला गया और 4 बांग्लादेश में। बचे हुए 4 पीठो में 1 श्रीलंका में, 1 तिब्बत में तथा 2 नेपाल में है।

शक्तिपीठों के नाम /Names of Shaktipeethas.


किरीट शक्तिपीठ | कात्यायनी शक्तिपीठ | करवीर शक्तिपीठ | श्री पर्वत शक्तिपीठ | विशालाक्षी शक्तिपीठ | गोदावरी तट शक्तिपीठ | शुचीन्द्रम शक्तिपीठ | पंच सागर शक्तिपीठ | ज्वालामुखी शक्तिपीठ | भैरव पर्वत शक्तिपीठ | अट्टहास शक्तिपीठ | जनस्थान शक्तिपीठ | कश्मीर शक्तिपीठ या अमरनाथ शक्तिपीठ | नन्दीपुर शक्तिपीठ | श्री शैल शक्तिपीठ | नलहटी शक्तिपीठ | मिथिला शक्तिपीठ | रत्नावली शक्तिपीठ | अम्बाजी शक्तिपीठ | जालंध्र शक्तिपीठ | रामागरि शक्तिपीठ | वैद्यनाथ शक्तिपीठ | वक्त्रोश्वर शक्तिपीठ | कण्यकाश्रम कन्याकुमारी शक्तिपीठ | बहुला शक्तिपीठ | उज्जयिनी शक्तिपीठ | मणिवेदिका शक्तिपीठ | प्रयाग शक्तिपीठ | विरजाक्षेत्रा, उत्कल शक्तिपीठ | कांची शक्तिपीठ | कालमाध्व शक्तिपीठ | शोण शक्तिपीठ | कामाख्या शक्तिपीठ | जयन्ती शक्तिपीठ | मगध् शक्तिपीठ | त्रिस्तोता शक्तिपीठ | त्रिपुरी सुन्दरी शक्तित्रिपुरी पीठ | विभाष शक्तिपीठ | देवीकूप पीठ कुरुक्षेत्र शक्तिपीठ | युगाद्या शक्तिपीठ, क्षीरग्राम शक्तिपीठ | विराट का अम्बिका शक्तिपीठ | कालीघाट शक्तिपीठ | मानस शक्तिपीठ | लंका शक्तिपीठ | गण्डकी शक्तिपीठ | गुह्येश्वरी शक्तिपीठ | हिंगलाज शक्तिपीठ | सुगंध शक्तिपीठ | करतोयाघाट शक्तिपीठ | चट्टल शक्तिपीठ | यशोर शक्तिपीठ

ध्यान दें : ऊपर लिखित सभी जानकारी धार्मिक ग्रंथों और धार्मिक मान्यताओं के आधार पर ही है बेहतरीन खबर इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ है


Wednesday, June 5, 2019

Reset Your Forgotten Windows Password For Free ||पासवर्ड कैसे चेंज करें बिना पुराना पासवर्ड डालें

Reset Your Forgotten Windows 10.7.8.XP Password For Free ||पासवर्ड कैसे चेंज करें बिना पुराना पासवर्ड डालें || कई बार हम अपने कंप्यूटर में पासवर्ड लगा देते हैं और उस पासवर्ड को याद रखना भूल जाते हैं कुछ दिनों के बाद जब हम अपने पासवर्ड को चेंज करना चाहते हैं तो बिना पुराना पासवर्ड डालें हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप का पासवर्ड चेंज नहीं कर पाते लेकिन आज मैं आपको बताऊंगा कि बिना पुराना पासवर्ड डालें हम अपने कंप्यूटर या लैपटॉप का पासवर्ड कैसे चेंज कर सकते हैं और बहुत ही आसानी के साथ हम अपने पासवर्ड को बिना कंट्रोल पैनल में जाए चेंज कर सकते हैं|





Reset Your Forgotten Password


Step -1 


अपने कंप्यूटर के Command Prompt में जाइए, उसके लिए आप Run Command  में CMD टाइप करें और CMD को राइट क्लिक करकेRun Command को Run As Administrator पर ओपन कर लीजिए.

Step -2



अब आप Command Promp में  Net User लिखे , ऐसा करते ही आपके कंप्यूटर और लैपटॉप में कौन कौन  से यूजर चल रहे है वो आपके सामने आ जायेंगे। 

Step - 3



 सबसे पहले अब Net User लिखे ,अब आप जिस भी यूजर पर पासवर्ड लगाना चाहते है उस (User Name)यूजर का नाम लिखे फिर स्पेस दे और (Password) पासवर्ड डालदे और एंटर करें .

ऊपर दिए हुए स्टेप्स को फॉलो करते हुए आप अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में बिना पुराना पासवर्ड डालें नया पासवर्ड क्रिएट कर सकते हैं वह भी बिना कंट्रोल पैनल में जाए और बिना पासवर्ड डाले तो देखा दोस्तों इस छोटी सी मजेदार ट्रिक से आप अपने कंप्यूटर या लैपटॉप के यूजर को नया पासवर्ड लगा सकते हैं वह भी बिना पुराना पासवर्ड डालें|

Monday, April 22, 2019

Best 5 Free Video Editing Software For Windows & Mac OS Laptop & Computer| Hindi

 Best 5 Free Video Editing Software For Windows & Mac OS Laptop & Computer| Hindi 

हेलो दोस्तों बेहतरीन खबर में आपका स्वागत है दोस्तों आज कल हर कोई यूट्यूब पर वीडियो स्टेटस बनाने की कोशिश करता रहता है लेकिन हम जिस ऐप या वेबसाइट या सॉफ्टवेयर में वीडियो एडिटिंग करते हैं वह ज्यादातर Paid होते हैं उन्हें चलाने के लिए हमें बहुत सारे पैसे देने पड़ते हैंलेकिन दोस्तों आज मैं आपके लिए कुछ ऐसे वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर लेकर आया हूं जो बहुत ही अच्छे हैं और उन सॉफ्टवेयर्स में आप प्रोफेशनल तरीके से वीडियो को एडिट कर सकते हैं और वीडियो स्टेटस बहुत ही आसानी के साथ बना सकते हैं तो आइए जानते हैं वह कौन से सॉफ्टवेयर हैं जिनका इस्तेमाल हम बिल्कुल फ्री कर सकते हैं|

Best 5 Free Video Editing Software For Window Or mac OS For Laptop & Computer
Best 5 Free Video Editing Software For Window Or mac OS For Laptop & Computer

#OpenShot (Video Editor ) Free Software

Click Here For Download OpenShot


OpenShot बहुत ही अच्छा वीडियो सॉफ्टवेयर है इसका इस्तेमाल हम बहुत ही आसानी के साथ कर सकते हैं यह सॉफ्टवेयर चाहे वह एप्पल का मैं ऑपरेटिंग सिस्टम हो या फिर माइक्रोसॉफ्ट का विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम हो यह सॉफ्टवेयर बड़ी ही आसानी के साथ वीडियो एडिटिंग कर सकता है,यह पूरी तरह से फ्री है , और लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है , इस सॉफ्टवेयर में आप प्रोफेशनली वीडियो एडिट कर सकते हो ,इसमें वो सभी टूल्स जो एक पेड सॉफ्टवेयर में होते है ,लगभग फ्री मिल जायेंगे , यानि के इस सॉफ्टवेयर को आप पूरे प्रोफेशनल तरीके से बिलकुल फ्री में चला पाएंगे , और बहुत ही बेहतर तरीके से आप वीडियो को फ्री में एडिट कर पाएंगे , डाउनलोड के बटन से आप इस सॉफ्टवेयर को बिलकुल फ्री में डाउनलोड करे और इस सॉफ्टवेयर का भरपूर लाभ उठाये। 


Thursday, April 11, 2019

How to Free hard disk data recovery | how to recover corrupted files from usb | #Behtreen_Khabar

How to Free hard disk data recovery | how to recover corrupted files from usb

Data Recovery Services:-

Friends, we sometimes lose our important data,Then we look for the data recovery service so that our important data can get us back,But for that we have to pay a lot of money because no data recovery service is available for free,But today we have brought some software for you that will give you free data recovery services.

Data Recovery Service
Free Data Recovery Service


How to Find the Best Data Recovery Service Free ????

However, in today's day, nothing is impossible.Whatever we search through the internet, we get it very easily.Just like we find the best data recovery service through the internet, we get very good results.Today, we will talk about the same results from now and will also learn how to get back their imported data.

How To Recover Deleted Data From Hard Disk & Pen Drive SD Card ??

Many times we keep our important data in a hard disk pen drive or SD card.But after a few days the hard disk pen drive or SD card is crypt-free for some reason.Because of which we lose our important data, because after the corrupt, we have to format those hard disk pen drives and SD cards.So today we will learn to recover data from the formatted hard disk pendrive and SD card.


Recuva - Software for data recovery

By the way, you will find so many software that you can easily get your lost data back again.But the software we will talk about today is named Recuva.You will find it on the internet with very ease.The important thing about this software is that it gives you back the hard disk  pen drives and the deleted data from the SD cards with very ease.Download this software through the download link and get it back with your deleted data very easily by installing it according to the operating system of your computer.

Wednesday, March 13, 2019

How to find out the age of anyone with the help of simple math || Magic Math Tricks || Behtreen Khabar

How to find out the age of anyone with the help of simple math || Magic Math Tricks || Behtreen Khabar

हेलो दोस्तो क्या आप जानते हैं, कि आप बहुत ही आसानी के साथ किसी की भी उम्र पता कर सकते हैं,वह भी बहुत ही चतुराई के साथ जी हां ! दोस्तों यह बहुत ही आसान है, इस तकनीक की सहायता से आप बहुत ही चतुराई के साथ किसी की भी उम्र पता कर सकते हैं, वह भी बिल्कुल सही जी हां ! दोस्तों चलिए आइए सीखते हैं, कैसे ?
बहुत ही चतुराई के साथ किसी की भी उम्र का पता करिए ऐसे पता करें
बहुत ही चतुराई के साथ किसी की भी उम्र का पता करिए ऐसे पता करें

How to find out the age of anyone ?

दोस्तों किसी की भी उम्र अगर आपको चतुराई के साथ जानी है, तो सामने वाले को आप यह अंदाजा ना होने दें, कि आप बहुत ही चतुराई के साथ उसकी उम्र का पता लगाने लगे हैं, आपको उसे सिर्फ यह बतलाना है, के आप एक जादू दिखाने लगे हो ,और वह बहुत ही जल्दी आपको अपनी उम्र बता देगा, और उसे खुद भी इसका पता नहीं लगेगा कि आप उसने अपनी उम्र आपको बता दी है, जी हां दोस्तों तो आइए जानते हैं कैसे बहुत ही चतुराई के साथ किसी  की भी उम्र कैसे पता करते हैं?

Step 1
  • सबसे पहले आपने जिसकी उम्र जाननी  है उसे 1 से 10 के बीच की कोई भी संख्या अपने मन में सोचने के लिए कहिए For Example ( मैं अपने मन में 5 नंबर चुनता हूं )
Step 2
  • अब आपको यह कहना है कि आपने जो भी संख्या अपने मन में सोची है उससे डबल कर दीजिए यानि  उस संख्या को 2 से मल्टीप्लाई कर दीजिए * (मैंने संख्या 5 सोची थी तो मैं 5 को 2  से गुना कर दूंगा 5 x 2 =10)
Step 3
  • अब आपको उसे यह कहना है कि आपका जो भी उत्तर है उसमें 5 जमा कर दीजिए (मेरा उत्तर 10 था तो मैं उसमें 5 जमा कर दूंगा  10 +5 =15)
Step 4
  • अब आपको उसे यह कहना है कि आए हुए उत्तर को 50 से गुणा  कर दीजिए यानि  मल्टीप्लाई कर दीजिए  (मेरा उत्तर 15 था तो मैं 15 को 50 से मल्टिप्लाई कर दूंगा 15 x 50 =750)
Step 5
  • दोस्तों अब आपको उसे आए हुए उत्तर में 1769 जोड़ने के लिए  कहना होगा(मैं अपने उत्तर में 1769 जोड़ दूंगा  750 + 1769 =2519)
Step 6
  • दोस्तों अब आपको उसे यह कहना है कि आए हुए उत्तर में अपने जन्मदिन का साल - माइनस  कर दीजिए यानि घटा दीजिए ( मेरा जन्म 1988 को हुआ था तो मैं अपने उत्तर में से 1988 घटा दूंगा 2519 -1988 =531)
दोस्तों अब आपको जिसकी भी उम्र जाननी है उसे उसका  उत्तर पूछिए और वह आपको जब उत्तर बताएगा तो इस उत्तर में तीन नंबर है पहला नंबर जो उसने अपने मन में सोचा था वह होगा और बाद के दो नंबर उसकी उम्र होगी और आप जब उसे यह कहेंगे कि आप इतने साल के हो तो   वह चौक जाएगा और हैरान हो जाएगा|

तो देखा दोस्तों आपने कितनी चतुराई के साथ आपने सामने वाले की उम्र का पता कर लिया और  उसके बारे में सामने वाले को भनक तक नहीं हुई दोस्तों मैथ ट्रिक जानकारी हासिल करने के लिए बहुत ही सरल माध्यम है, बशर्ते आपको  इन मैथ ट्रिक्स के बारे में जानकारी होनी चाहिए, दोस्तों अगर आपको मैथ ट्रिक की सहायता से किसी का भी मोबाइल नंबर पता करना है तो ! आप इस लिंक पर क्लिक करिए धन्यवाद दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया पोस्ट को लाइक करें और कमेंट करें

मैथ ट्रिक्स की सहायता से किसी का भी मोबाइल नंबर पता करें || How to KnowMobile Number With the help of Math Tricks.

मैथ ट्रिक्स की सहायता से किसी का भी मोबाइल नंबर पता करें || Mobile Number  With the help of Math Tricks.


दोस्तों मैथ ट्रिक्स ऐसी मजेदार तकनीक है जिसकी सहायता से हम किसी को भी सोचने पर मजबूर कर सकते हैं, आज हम आपके लिए एक ऐसी ही मजेदार मैथ ट्रिक्स लेकर आए हैं, जिसकी सहायता से आप किसी का भी मोबाइल नंबर बहुत ही आसानी के साथ हासिल कर सकते हैं,आपको बता दें के इस सिंपल मैथ ट्रिक से आप अपने दोस्तों का मोबाइल नंबर बड़ी ही आसानी के साथ ले सकते हैं,और अपने दोस्तों को सोचने पर मजबूर कर सकते हैं तो आइए दोस्तों जानते हैं ,इस मजेदार मैथ ट्रिक को|
अपनी गर्लफ्रेंड का मोबाइल नंबर जाने एक सिंपल मैथ्स ट्रिक की सहायता से
अपनी गर्लफ्रेंड का मोबाइल नंबर जाने एक सिंपल मैथ्स ट्रिक की सहायता से

Friday, March 8, 2019

8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

क्या आपको पता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है इसके पीछे कौन सा राज है आखिर क्यों 8 मार्च के ही दिन अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है आइए आज हम आपको बताते हैं के अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है क्या है इसके पीछे ?  आइए जानते हैं|


8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस


8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

यह तो हम जानते ही हैं 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है, लेकिन यह प्रथा कब शुरू हुई,क्या 8 मार्च को कुछ ऐसा हुआ था जिससे अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित कर दिया गया,वैसे तो पूरे दुनिया भर में यह प्रथा सालों से चली आ रही है 8 मार्च को हम और पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है लेकिन यह प्रथा कब शुरू हुई और क्यों शुरू हुई आइए जानते हैं|


कब शुरू हुआ अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

दरअसल अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक मजदूर आंदोलन में से निकल कर आया इसकी शुरुआत साल 1960 में हुई,सन 1960 में 15000 महिलाओं ने एक मजदूर आंदोलन के रूप में मार्च निकाला, इसका मेन मकसद यह था कि उनको भी मर्दो के मुकाबले नौकरी मिले, और मर्दों के मुकाबले ज्यादा वेतन मिले, इसके पीछे एक और मकसद महिलाओं का था ,जो यह था कि महिलाओं को भी मतदान करने का अधिकार मिले,जिसके 1 साल बाद सोशलिस्ट पार्टी ऑफ अमेरिका ने उस दिन को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित कर दिया|


पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कैसे बना?

 महिला दिवस को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बनाने का आइडिया भी एक महिला का ही था,साल 1911 में सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया जर्मनी स्वीटजरलैंड और डेनमार्क में सबसे पहला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया,साल 1975 में महिला दिवस को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता उस वक्त दी गई जब  संयुक्त राष्ट्र ने इसे हर साल एक थीम के रूप में मनाने के लिए कहा|


आखिर 8 मार्च को ही क्यों अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस चुना गया ?

कभी ना कभी आपके मन में यह ख्याल जरूर आया होगा कि आखिर 8 मार्च का दिन ही क्यों चुना गया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को मनाने के लिए आखिर क्या था इस दिन में जो 8 मार्च को ही अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को मनाया जाने लगा,दरअसल 1917 में युद्ध के दौरान रूस की महिलाओं ने ब्रेड एंड पीस की मांग रखी इसका मतलब यह था "खाना और शांति", रूस की महिलाओं ने खाना और शांति को लेकर एक हड़ताल की महिलाओं की हड़ताल में वहां के सरताज निकोलस को अपना पद त्यागने के लिए मजबूर कर दिया,और आखिरकार सरकार ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दे दिया,जिस दिन महिलाओं ने यह हड़ताल शुरू की उस दिन तारीख 23 फरवरी  थी, बिग ओरियन कैलेंडर में यह तारीख 8 मार्च थी,तब से 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित कर दिया गया|


Friday, March 1, 2019

Ek Aisa Song Jo poore 5 Saal Baad Har Dilo ki Dhadkan Pe Cha Gya || Teri Pyari Pyari Do Akhiya

Ek Aisa Song Jo poore 5 Saal Baad Har Dilo ki Dhadkan Pe Cha Gya || Teri Pyari Pyari Do Akhiya


इस गाने ने एक लड़के को रातों रात बना दिया स्टार,Teri Pyari Pyari do Akhiyaहेलो दोस्तों क्या आप जानते हैं ,कि एक ऐसा गाना जो पूरे 5 साल बाद लोकप्रिय हुआ ,जब यह आया था !  तब इतना पॉपुलर नहीं था ,परंतु पूरे 5 साल बाद यह इतना पॉपुलर हो गया ,आज दुनिया भर में हर मोबाइल हर लैपटॉप और हर कंप्यूटर में यह गाना देखने को मिलता है, जब भी आप फेसबुक खोलते हो या टिक टॉक खोलते हो या फिर इंस्टाग्राम में देखते हो तो आपके सामने यही वह गाना दिखाई पड़ता है ,तो आइए जानते हैं ! वह कौन सा गाना है जिसके बारे में हम आपको बताना चाहते हैं|


 तेरी प्यारी प्यारी दो अखियां 

जी हां दोस्तों यही है वह गाना जिसका नाम है "तेरी प्यारी प्यारी दो अखियां " यह गाना "भिंदा औजला " ने गाया है यह गाना आज से लगभग 5 साल पहले आया था परंतु यह तब इतना पॉपुलर नहीं हुआ था लेकिन आज यह लगभग हर धड़कन पर छाया हुआ है,यह गाना क्यों इतना पॉपुलर हुआ इसका क्या रीजन है ! इतना पॉपुलर होने का ? वह भी हम आपको बताएंगे तो आइए दोस्तों जानते हैं|


यह गाना 5 साल बाद क्यों इतना पॉपुलर हुआ ?

दोस्तों हम आपको यह बता रहे हैं के "तेरी प्यारी प्यारी दो अखियां" जोकि एक पंजाबी गायक "भिंदा औजला" ने गाया है, यह  बाद में इतना पॉपुलर क्यों हुआ ? जब यह गाना आया था तब यह इतना पॉपुलर नहीं हुआ था , लेकिन यह पूरे 5 साल बाद हर जगह देखने को मिलने लगा, इसी गाने ने एक लड़के को रातों रात स्टार भी बना दिया , जी हां दोस्तों वही लड़का इस गाने को 5 साल बाद पॉपुलर करने का हकदार है , जिसका नाम है "सागर गोस्वामी" यह एक "Tik Tok" यूजर है, दोस्तों इसने इस गाने को एक एक्टर के तौर पर फरमाया, जिसे लोगों ने Tik ToK पर बहुत ही सराहा, जिसके कारण यह गाना रातों रात इतना पॉपुलर हो गया के लोग इस गाने को डाउनलोड करने लगे, लोग इस गाने पर अपनी वीडियो बनाने लगे,और देखते ही देखते यह गाना पूरी दुनिया भर में पॉपुलर हो गया, यही वे असल कारण  है जिसके कारण यह गाना पूरे 5 साल बाद इतना पॉपुलर हुआ|


यह गाना कब रिलीज हुआ ? और इसे किसने गाया  और किसने लिखा ?

दोस्तों यह टाइटल सॉन्ग जिसका नाम "सजना"है ,और यह साल 2014 मे  रिलीज हुआ  , इस गाने को म्यूजिक दिया है "भिंदाओजला" ने इस गाने को "अमर ऑडियो" में रिकॉर्ड किया गया, इसके लिरिक्स लिखे हैं "मनदीप धारीवाल" और "संदीप सक्सेना" ने इस गाने में "भिंदाओजला" और "बॉबी लायल" मॉडलिंग करते नजर आए|